अपना पता ढूंढ रहे हैं!

पहले तो ज़माने में कहीं खो दिया ख़ुद को,
आईने में अब अपना पता ढूंढ रहे हैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply