वफ़ा ढूंढ रहे हैं!

इस अहद के इंसां मे वफ़ा ढूंढ रहे हैं,
हम ज़हर की शीशी मे दवा ढूंढ रहे हैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply