सिरा ढूंढ रहे हैं!

दुनिया को समझ लेने की कोशिश में लगे हम,
उलझे हुए धागों का सिरा ढूंढ रहे हैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply