बदलते हुए मौसम की तरह!

कभी ग़ुंचा कभी शोला कभी शबनम की तरह,
लोग मिलते हैं बदलते हुए मौसम की तरह|

राना सहरी

Leave a Reply