मरहम की तरह!

कैसे हमदर्द हो तुम कैसी मसीहाई है,
दिल पे नश्तर भी लगाते हो तो मरहम की तरह|

राना सहरी

Leave a Reply