मेरा हमनवा कर दे!

अकेली शाम बहुत जी उदास करती है,
किसी को भेज कोई मेरा हमनवा कर दे|

राना सहरी

2 Comments

Leave a Reply