उधर के हम हैं!

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं,
रुख हवाओं का जिधर का है, उधर के हम हैं |

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply