कहाँ के हैं, किधर के हम हैं!

वक़्त के साथ है मिट्टी का सफ़र सदियों से,
किसको मालूम, कहाँ के हैं, किधर के हम हैं |

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply