दूसरे घर के हम हैं!

पहले हर चीज़ थी अपनी मगर अब लगता है,
अपने ही घर में, किसी दूसरे घर के हम हैं |

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply