ख़्वाब मेयारी रखो!

ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ायम रहे,
नींद रखो या न रखो ख़्वाब मेयारी रखो|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply