प्रीत अमर कर दो!

होंठों से छू लो तुम,
मेरा गीत अमर कर दो|
बन जाओ मीत मेरे,
मेरी प्रीत अमर कर दो|

इंदीवर

2 Comments

  1. vermavkv says:

    बहुत प्यारा गीत है यह |

    1. shri.krishna.sharma says:

      बहुत बहुत धन्यवाद जी।

Leave a Reply