आंगन में समाने वाला!

दूर के चांद को ढूंढ़ो न किसी आँचल में,
ये उजाला नहीं आंगन में समाने वाला|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply