दिया जलाये जो दर पर!

ये मेरे घर की उदासी है और कुछ भी नहीं,
दिया जलाये जो दर पर मेरी तलाश में है|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply