भेस बदल कर मेरी तलाश में है!

बस एक वक़्त का ख़ंजर मेरी तलाश में है,
जो रोज़ भेस बदल कर मेरी तलाश में है|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply