जहर के प्यालों की तरह!

तेरे बिन, रात के हाथों पे ये तारों के अयाग,
खूबसूरत हैं मगर जहर के प्यालों की तरह|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply