तेरे गालों की तरह!

और क्या उसमें जियादा कोई नर्मी बरतूं,
दिल के जख्मों को छुआ है तेरे गालों की तरह|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply