महकते हैं शिवालों की तरह!

गुनगुनाते हुए और आ कभी उन सीनों में,
तेरी खातिर जो महकते हैं शिवालों की तरह|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply