दिल में कुछ दर्द चमकते हैं!

हम से मायूस न हो ऐ शब-ए-दौराँ कि अभी,
दिल में कुछ दर्द चमकते हैं उजालों की तरह|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply