सुलगते हैं सवालों की तरह!

मुझसे नजरे तो मिलाओ कि हजारों चेहरे,
मेरी आंखों में सुलगते हैं सवालों की तरह|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply