क़ाफ़िला हो जाऊँगा!

मुझको चलने दो अकेला है अभी मेरा सफ़र,
रास्ता रोका गया तो क़ाफ़िला हो जाऊँगा|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply