लचक जाना ज़रूरी है!

थके-हारे परिंदे जब बसेरे के लिए लौटें,
सलीक़ा-मंद शाख़ों का लचक जाना ज़रूरी है|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply