प्यार के ज़ख्म अमानत हैं!

ये जरूरी नहीं हर शख्स मसीहा ही हो,
प्यार के ज़ख्म अमानत हैं दिखाया न करो|

मोहसिन नक़वी

Leave a Reply