शरमाये भी घबराये भी!

एक पगली मेरा नाम जो ले शरमाये भी घबराये भी,
गलियों गलियों मुझसे मिलने आये भी घबराये भी|

मोहसिन नक़वी

Leave a Reply