ऐ दोस्त ग़ौर कर शायद!

जान पहचान से ही क्या होगा,
फिर भी ऐ दोस्त ग़ौर कर शायद|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply