याद-ए -याराने-बेख़बर शायद!

जिंदगी भर लहू रुलाएगी,
याद-ए -याराने-बेख़बर शायद|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply