जिस तरह मा’नी जान लेते हैं!

जिसे सूरत बताते हैं पता देती है सीरत का,
इबारत देखकर जिस तरह मा’नी जान लेते हैं|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply