यादों की चादर तान लेते हैं!

तबीयत अपनी घबराती है जब सुनसान रातों में,
हम ऐसे में तेरी यादों की चादर तान लेते हैं|

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply