दरिया उतर गया यारो!

भटक रही थी जो कश्ती वो ग़र्क-ए-आब हुई,
चढ़ा हुआ था जो दरिया उतर गया यारो|

शहरयार

Leave a Reply