दामन तर करने अब आते हैं!

जज़्ब करे क्यों रेत हमारे अश्कों को,
तेरा दामन तर करने अब आते हैं|

शहरयार

Leave a Reply