आँखों ने कुछ और कह दिया!

लेकिन हमारी आँखों ने कुछ और कह दिया,
कुछ और कहते रह गए अपनी ज़बाँ से हम|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply