टूटे हैं कितने कहाँ से हम!

अब क्या बताएँ टूटे हैं कितने कहाँ से हम,
ख़ुद को समेटते हैं यहाँ से वहाँ से हम|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply