नाराज़ हैं ज़मीं से!

क्या जाने किस जहाँ में मिलेगा हमें सुकून,
नाराज़ हैं ज़मीं से ख़फ़ा आसमाँ से हम|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply