उलझता है जब भी हमारा अक्स!

आईने से उलझता है जब भी हमारा अक्स,
हट जाते हैं बचा के नज़र दरमियाँ से हम|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply