किसी के कमां से हम!

क्या जाने किस निशाने पे जाकर लगेंगे कब,
छोड़े तो जा चुके हैं किसी के कमां से हम|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply