इक पीर पली मीलों तक!

माँ के आँचल से जो लिपटी तो घुमड़कर बरसी,
मेरी पलकों में जो इक पीर पली मीलों तक|

कुंवर बेचैन

Leave a Reply