दुख की गली मीलों तक!

प्यार का गाँव अजब गाँव है जिसमें अक्सर,
ख़त्म होती ही नहीं दुख की गली मीलों तक|

कुंवर बेचैन

Leave a Reply