मन में घुलती रही–

हम तुम्हारे हैं ‘कुँअर’ उसने कहा था इक दिन,
मन में घुलती रही मिसरी की डली मीलों तक|

कुंवर बेचैन

Leave a Reply