माज़ी की रुसवाई भी!

यादों की बौछारों से जब पलकें भीगने लगती हैं,
कितनी सौंधी लगती है तब माज़ी की रुसवाई भी|

गुलज़ार

Leave a Reply