वो भी हों तनहाई भी!

एक पुराना मौसम लौटा याद भरी पुरवाई भी,
ऐसा तो कम ही होता है वो भी हों तनहाई भी|

गुलज़ार

Leave a Reply