कोई ज़ख़्म तो भर जाने दे!

ऐ नये दोस्त मैं समझूँगा तुझे भी अपना,
पहले माज़ी का कोई ज़ख़्म तो भर जाने दे|

नज़ीर बाक़री

Leave a Reply