मगर जाने दे!

ज़ख़्म कितने तेरी चाहत से मिले हैं मुझको,
सोचता हूँ कि कहू तुझसे, मगर जाने दे।

नज़ीर बाक़री

Leave a Reply