मोती भी बिखर जाने दे!

ज़िंदगी मैंने इसे कैसे पिरोया था न सोच,
हार टूटा है तो मोती भी बिखर जाने दे।

नज़ीर बाक़री

Leave a Reply