सूरज कभी निकलेगा ‘नज़ीर!

इन अंधेरों से ही सूरज कभी निकलेगा ‘नज़ीर’,
रात के साये जरा और निखर जाने दे।

नज़ीर बाक़री

Leave a Reply