अभी है दूर सहर-

अभी तो जाग रहे हैं चराग़ राहों के,
अभी है दूर सहर थोड़ी दूर साथ चलो|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply