ये जानता हूँ मगर-

तमाम उम्र कहाँ कोई साथ देता है,
ये जानता हूँ मगर थोड़ी दूर साथ चलो|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply