कोई झांकता लगे है मुझे!

मैं सो भी जाऊँ तो मेरी बंद आंखों में,
तमाम रात कोई झांकता लगे है मुझे|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply