कोई बद-दुआ लगे है मुझे!

हर एक रूह में एक ग़म छुपा लगे है मुझे,
ये ज़िन्दगी तो कोई बद-दुआ लगे है मुझे|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply