पहचाना सा लगे है मुझे!

मैं सोचता था कि लौटूंगा अजनबी की तरह,
ये मेरा गांव तो पहचाना सा लगे है मुझे|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply