वो आवाज़-ए-पा लगे है मुझे!

जो आंसुओं में कभी रात भीग जाती है,
बहुत क़रीब वो आवाज़-ए-पा लगे है मुझे|

जां निसार अख़्तर

Leave a Reply