तब कहीं रास्ते पिघलते हैं!

दिन पहाड़ों की तरह कटते हैं,
तब कहीं रास्ते पिघलते हैं।

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply